आप सभी का स्वागत है trendingjanata.in वैसे तो पूरे भारत में पहले Lockdown 2021 लग चुका है। लेकिन 2021 मैं करो ना कि दूसरी लहर आने के बाद दोबारा से सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाया जा रहा है।

Lockdown 2021


मास्क हैं जरूरी

दिल्ली में भी करोना का ऐसा कहर टूट रहा है कि लोग इस को संभाले नहीं संभाल पा रहे। 2020 में लॉकडाउन लगा था, तो लोगों में बहुत डर था लेकिन अब बैठक इतना नहीं है जैसे कि लोगों ने करो ना से दोस्ती कर ली हो। लॉकडाउन लगने के बाद भी लोग अपनी दिनचर्या अपने सामान्य तरीके से जी रहे हैं और अपने दिन भर के काम कर रही हैं लोगों को कोई परवाह नहीं है कि Lockdown 2021 है या कोई बीमारी है सब यही सोच रही हैं कि आती जाती रहती है ऐसी बीमारी लेकिन कुछ लोग बहुत एतिहाद बरत रहे हैं। 19 अप्रैल 2020 से दिल्ली सरकार द्वारा दोबारा से लॉकडाउन लगा दिया जाए। लेकिन सभी लोग मास्क पहने.

Lockdown 2021 में शादी

दिखाई दे रही है और इसलिए नहीं कि कोई बीमारी के डर से मैं इसलिए माफ को पहन रही हैं ना पहनने पर दिल्ली सरकार चालान काट रही है। पिछले Lockdown 2021 में घर पर ही था क्योंकि सरकार ने सभी दुकाने एवं कारोबार बंद कर रखा था लेकिन इस बार ऐसा नहीं है लोग अपने दुकाने और व्यापार और को चला रही हैं। आज लॉकडाउन 2021 का पहला दिन है। मैं अपने काम से बाहर जा रहा था। लेकिन देखा हर दिन की तरह यह दिन भी आम ही लग रहा था। लेकिन बाहर जाकर पता चला कि सरकार कितनी सावधानियां बरस रही है। हर कोई दिल्लीवासी मास्क लगाकर ही कहीं आ जा रहा है कई लोग सिर्फ जरूरी कामों के लिए ही घर से बाहर जा रहे हैं कई सारी दुकानें भी खुली हुई हैं और कई सारी दुकानें बंद भी हैं। सरकार ने दुकानों को एक निश्चित समय दे दिया है क्यों इतने से इतने बजे तक की खोल सकते हैं। सुबह मुझे अपने घर के कुछ सामान लेने जा रहा था तो मैं मास्क लगाकर अपने घर से बाहर निकला तो देखा पहले की तरह 2 गज की दूरी बहुत कम ही लोग अपना रहे थे। लोग बहुत ही आसपास खड़े थे जिनमें 2 गज की दूरी तो क्या 1 गज की दूरी भी नजर नहीं आई।



लेकिन दुकानदारों बहुत ज्यादा सावधानियां बरत रही है वह लोगों को दूरी बनाए रखने के लिए कह रहे हैं। घर आ जाता हूं। इसके बाद में तैयार होकर अपने काम के लिए जाता हूं। काम पर जाते समय हर 500 मीटर की दूरी पर पुलिस वाले दिखाई देते हैं जो लोगों से यह पूछते दिखाई देते हैं कि वह किस काम के लिए जा रहे हैं। अगर कोई जरूरी काम लगता है होने तो उनको जाने देते हैं अगर नहीं लगता तो है उनको डांटते फटकार ते हैं। दिल्ली पुलिस वालों ने पूछा कि आप कहां से मैं मैं काम पर जा रहा था जो करोना के इस दौर में बहुत जरूरी है। दवाइयों की बहुत ज्यादा जरूरत है इसलिए जो medical pharmacy है। 

Lockdown india


इसलिए उन्होंने मुझे जाने दिया। जाते वक्त मैंने सड़कों पर बहुत ज्यादा सन्नाटा देखा। लोग अपनी जरूरतों के लिए ही बाहर जा रहे है। मेरे दफ्तर में भी बहुत कम कर्मचारी आ रहे हैं क्योंकि इस करो ना के दौर में लोगों को दूरी बनाए रखें सख्त बोला जाता है। कई व्यापारी अपने कर्मचारियों को उनकी तनखा नहीं दे रही हैं इससे दिल्लीवासियों को करोना  से ज्यादा डर भुखमरी से है। क्योंकि दिल्ली के सारे बॉर्डर बंद कर दिए गए हैं। केवल जरूरी चीजें ही आ जा रही हैं। जैसे दवाइयां सब्जियां एवं खाद्य पदार्थ। इस मिनी लॉकडाउन में मुख्य सड़कों पर पुलिस वालों की मौजूदगी है इलाकों में भी जिन दुकानों को खोलने की मंजूरी नहीं है वह दुकानों का शटर बंद है लेकिन दवाइयां खाने पीने जैसी जरूरत की दुकानें खुली हुई है कई लोग फल एवं सब्जी खेलों पर रही है लेकिन वह भी मास्क लगाकर पूरे सावधानियों के साथ अपना काम कर रहे हैं। दिल्ली 6 जो बहुत ही भीड़-भाड़ से भरा होता है उस रोड पर भी आज सन्नाटा नजर आ रहा है।

 आम दिनों में यहां लोग अपनी खरीदारी करने आते हैं और यहां इतनी ज्यादा भीड़भाड़ रहती है कि लोग 2 गज की दूरी रख ही नहीं सकते। लेकिन आज यह है इतना शांत है यहां गिने-चुने ही लोग जो अपनी जरूरतों के लिए जा रही है और सिर्फ जरूरत की ही दुकानें खुली हुई है बाकी सारे दुकानें बंद कर दी गई हैं। दिल्ली में जो बढ़ते आंकड़े हैं जाहिर है दिल्ली के लोग उसको बहुत अच्छी तरह से समझ रही है क्योंकि लोग भीड़ भाड़ में धूम मास्क लगाकर एवं 2 गज की दूरी को ध्यान में रखकर अपने काम कर रहे हैं। यहां से जाने की दुकान फलों की दुकान एवं मिठाइयों की दुकान ही खुली हुई है। कर खा नहीं सकते आप ले जा सकती हैं। पुलिस वाले सभी लोगों के आई कार्ड देख कर ही उनको जाने दे रही है जिन लोगों को मंजूरी मिली है सिर्फ वही लोग जा सकते हैं बाकी सभी कोको वही रोक दिया जा रहा है। सुबह के समय सभी लोगों से उनके पास आई कार्ड या पहचान पत्र मांगी जा रही हैं तभी उनको जाने की इजाजत दी जा रही है। से पूछताछ भी की जा रही है कि वह किस काम के लिए जा रही है मैं ऐसे ही एक ट्रोल पर रुका जा मैंने अपना आई कार्ड दिखाया वहीं दो व्यक्ति अपने गांव जाने के लिए पुलिस वालों से मंजूरी ले रही थी, लेकिन पुलिस वालों ने उनको मना कर दिया। 

लॉकडाउन लगने के बाद अब बिना ई पास आई कार्ड के कहीं आ जा नहीं सकते। मजदूरों को अपने गांव जाना था क्योंकि उनको भुखमरी से ज्यादा डर था ना कि करो ना से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इन मजदूरों से हाथ जोड़कर निवेदन किया था कि आप अभी कहीं आ जा नहीं सकते लेकिन कुछ मजदूरों को अपने गांव जैसे हमने पिछले लॉकडाउन में देखा था बस अड्डा एवं रेलवे स्टेशनों पर मजदूरों की काफी भीड़ थी जो इस लॉकडाउन में भी दिखाई दे रही है।

 लोग अपने गांव जाने के लिए को साधन मिल पाने पर पैदल ही अपने गांव जा रही हैं। आप देख सकते हैं आनंद विहार कौशांबी जैसे बस अड्डे पर मजदूरों की काफी भीड़ जमा हो रही होगी जैसे 2020 में मजदूरों की भारी-भरकम भीड़ बस अड्डे पर जमा हुई थी वही नजारा देख सकते हैं। कई जगहों पर बिहार के लिए बस से जा रही है और उनमें लोग काफी संख्या में अपने घर जाने के लिए जा रहे हैं। पूरी बस खचाखच लोगों से भरी है। क्योंकि लोगों भुखमरी से डर रहे हैं। लेकिन जो आया है उसको तो जाना ही होगा लेकिन एक निश्चित समय हो तो ज्यादा बेहतर होता है इस करो ना के दौर में लोगों ने कई सारी बातें सीखी हैं! 

Lockdown 2021


जिनमें से एक यह भी है कि पैसा हर वक्त काम नहीं आ सकता मैंने इस दौर में कई ऐसे लोगों को देखा है जिन्होंने इतना पैसा कमाया सारा पैसा इस बीमारी में लगा दिया लेकिन मैं पैसा उनकी कोई काम नहीं आया। इस दौर में लोग पैसे फूलना अहमियत देकर अपनी सुरक्षा को ज्यादा अहमियत दे रहे हैं लेकिन जो गरीब पर है वह भूखमरी के डर से अपने गांव जाने के लिए उतावले हैं क्योंकि उनके साथ उनके परिवार एवं उनके बच्चे भी हैं जो यहां रहकर भुखमरी से  गुजरेंगे डर से कई प्रवासी लोग अपने गांव जा रही हैं दिल्ली में बढ़ते केस की वजह से दिल्ली सरकार ने लोगों से यह निवेदन किया है कि वह लॉकडाउन का सख्ताई से पालन करें करो ना की दवाई बनने के बाद भी लोगों में का दर्द अभी भी उतना ही है जितना कि पहले था। सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है कि सब जल्दी से ठीक हो जाए और करोना के केस आने कम हो जाए। दफ्तर से आते हुए मैंने देखा कि रेड लाइट पर गरीब वर्ग के लोग बैठे हुए थे जो अपने गांव जाने के लिए तरस रहे हैं। करुणा की दौड़ में कई लोग इन गरीब लोगों को खाना खिलाने का नेक काम भी कर रहे हैं। सभी इस दौर में किसी ना किसी परेशानी से जूझ रहे हैं। कोई भूख से तो कोई बीमारी से कहती है कि जिसका कोई नहीं होता उसका भगवान होता है। यह बात सच है मैंने देखा कि उन गरीब वर्ग के लोगों को कई लोग खाना पैसा दे रहे थे। वैसे तो पूरे देश में अभी इस महामारी से कई लोग लड़ रहे हैं। 

आज लॉकडाउन का पहला दिन है और आज दिल्ली में कोरोनावायरस 23000 से भी ज्यादा केस आ चुके हैं। तभी दिल्ली सरकार नहीं Lockdown 2021 का विचार किया। क्योंकि लॉकडाउन एक बहुत कारगर इलाज है इस बीमारी का दिल्ली के अलावा कई राज्यों ने भी लॉकडाउन लगा रखा है जैसे मुंबई, राजस्थान ,गुजरात एवं यूपी और कई राज्य भी इस बीमारी को देखते हुए लॉकडाउन की तैयारी में है। आते समय मुझे प्रवासी मजदूर मिले उनसे बातचीत करने के बाद यह पता चला कि उन लोगों को अपनी सरकार के ऊपर कोई भरोसा नहीं है। लेकिन मैंने उनको समझाया कि यह करो ना का दौर पहले भी आ चुका है। तो आप अपनी सावधानियां और सुरक्षा के साथ दिल्ली में रहकर ही इस बीमारी का सामना करें और इसमें आपकी दिल्ली सरकार पूरी मदद करेगी। 

Lockdown 2021


जब मैं घर वापस आया तो मेरी छोटी बहन ने मुझे बताया कि इलाके में पुलिस का एक समूह यहां की सुरक्षा और सावधानियां का जायजा ले रहा था कई लोग अपने घरों के बाहर बिना किसी काम के बैठे हुए थे। तो पुलिस वालों ने उनको समझाया और उनसे उठक बैठक लगवाई। पुलिस वाले समय-समय पर गलियों में आकर यह देख रहे थे कि कोई व्यक्ति बिना किसी जरूरत के काम के बाहर ना हो। हमारे इलाके में कई कोविड-19 के मरीज मिले हैं। जिनकी सरकार द्वारा देख रहे हो रही है। उनके घर के सामने एक होमगार्ड को रखा गया है जो उनकी जरूरत की सारी चीजें लाता है और उनकी देखभाल करता है। और यह भी देखता है कि कोई घर से बाहर ना है और ना ही कोई अंदर जाए। चिकित्सा से संबंधित लोगों को ही आने दिया जाता है जो उनका टेस्ट लेता है और उनको दवाइयां  देता है। 

जैसे आंगनवाड़ी कर्मचारी समय-समय पर लॉकडाउन का पहला दिन आकर उनको चेक करते हैं। और सैंपल लिया जाता है। जब तक वह मरीज संपूर्ण रूप से ठीक नहीं हो जाता यह प्रक्रिया तब तक चलाई जाती है। इस लॉकडाउन के दौर में लोगों को पैसे की अहमियत भी पता चली है। लोग जो फालतू के खर्चे करते थे। मैं सिर्फ अपनी जरूरतों का सामान ही खरीद रहे हैं। हमने भी सिर्फ अपनी जरूरतों का ही सामान खरीदा है क्योंकि इस दौर में लोगों का व्यापार बंद हो गया है। मेरे पापा जिनकी चांदनी चौक में साड़ियों की दुकान उनकी दुकान इस वक्त बंद है इसलिए हम सिर्फ अपनी जरूरतों को ही पूरा कर रहे हैं। 2020 में जब प्रधानमंत्री द्वारा 1 दिन का Lockdown 2021 लगाया गया था तब किसी को यह नहीं पता था कि यह बीमारी इतनी बढ़ जाएगी। सभी राज्यों ने अपनी अपनी तरफ से 3 महीनों का लॉकडाउन लगाया था उस समय लोगों को काफी दिक्कतें आई कि लोगों को नहीं पता था कि यह 1 दिन का Lockdown 2021, 3 महीने का Lockdown हो जाएगा लेकिन अब लोगों को यह दिक्कत नहीं आई क्योंकि लोगों को यह पता है कि वह इस दौर में कैसे अपना गुजारा कर सकते हैं पर इस बीमारी से लड़ सकते हैं। 

Lockdown Road


इस लॉकडाउन में हमने पहले से ही महीने का राशन ले लिया था जिससे हमें बार-बार बाहर ना जाना पड कई लोगों ने़े ऐसा ही किया है। लोग पहले से ही अपना राशन खरीद रहे हैं। दिल्ली सरकार ने भी राशन को मुफ्त बांटने का ऐलान किया है और इस दौर में लोगों को दोगुना राशन देने का वादा किया है। आज लोगों का पहला दिन है और नवरात्रि भी चल रही है। लोग नवमी वाले दिन नौ कन्याओं को नहीं बुला पाएंगे। लोग अपने त्यौहार अपने घरों में ही मना रहे हैं। 2020 में होली से लेकर दिवाली तक यह बीमारी कमी नहीं और 2021 में भी शुरुआत से लेकर अभी तक की बीमारी बनी हुई है! 

लोगों को अपने घरों में रहने को कर दिया है। इस दौर में नई-नई चीजें अपना समय बिता रहे हैं। अपनी रोजमर्रा के काम करते हैं ना गुजर-बसर कर रहे हैं। आज पहला दिन था Lockdown 2021 का और स्कूल भी कई समय से बंद किए गए हैं। इसलिए सभी बच्चे अपने घरों में ही बैठकर पढ़ाई कर रही हैं मेरी छोटी बहन भी घर में ही मोबाइल द्वारा अपनी पढ़ाई कर रही है। लेकिन सभी बच्चे अपने घरों में ही हैं। कई लोग अपना समय पढ़ने में व्यतीत कर रहे हैं। लेकिन सभी लोग इस लॉकडाउन में भी सरकार का पूरा साथ दे रहे हैं।

आज लॉकडाउन का पहला दिन था और सभी लोग इस लॉकडाउन को बहुत ही गंभीर रूप से पालन करते दिखाई दिलोग ज्यादातर अपने घरों में ही समय व्यतीत करें और जो जरूरत की चीजें हैं उनकी दुकानें खुली हुई है और सभी मास्क लगाकर एवं दो गज की दूरी बनाए रखे हैं और सरकार द्वारा दिए गए नियमों का पालन कर रहे हैं। क्योंकि यह बीमारी जल्दी से जल्दी खत्म हो जाए यह सभी कामना कर रहे हैं।


Post a Comment

If you have any doubt please let me know.🙏

और नया पुराने